गाँवों का भारत

Sunday, May 27, 2012

कुछ तस्वीरें गाँव की




सार्वजनिक स्नानागार 


सृजन- शिखर 

एक शाम 

तलैया 

पुश्तैनी घर 
आजमगढ़ 
ये कट गया कटहल 

बगीचे के आम 
कटहल 
एक  क्लिक लालू के ढाबे का 
ग्रामीण अपने काम  पर 
गाँव का ताल 
एक और शाम 

11 comments:

  1. वाह बहुत ही खूबसूरत उपेन्द्र जी । मनमोहक पोस्ट , गांव की याद आ गई कसम से

    ReplyDelete
  2. Very nice post.....
    Aabhar!
    Mere blog pr padhare.

    ReplyDelete
  3. ab jab bhi azamgarh jayiha.. to baandh pr ke photo jarur post kariha... bahut sundar photo ba..

    ReplyDelete
    Replies
    1. This comment has been removed by the author.

      Delete
    2. anita ji , dhanyabad. agli bar jaroo kuchh pics vahan ke launga...

      Delete
  4. वाह... गाँव की यादें ताज़ा हो गयी....

    ReplyDelete
  5. खूबसूरत सादगी.
    आशीष
    --
    इन लव विद.......डैथ!!!

    ReplyDelete
  6. भाई वाह.... आनंदम आनंदम आनंदम

    और कहीं न कहीं दिल से एक हुक सी भी उठी है..भाई बेशक मेरे गाँव में आम और कटहल न हो... पर गाँव याद आ गया.

    ReplyDelete